शाह के बाद पीएम मोदी आज ममता के गढ़ में, राष्ट्र को समर्पित करेंगे रेलवे के कई प्रोजेक्ट

sheershaasan karatee kaangres

नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी आज पश्चिम बंगाल के दुगार्पुर और उत्तर 24 परगना जिले में रैली करेंगे। इसे पश्चिम बंगाल में पीएम के चुनाव अभियान के तौर पर देखा जा रहा है। इससे पहले पीएम ने शक्रवार को ट्वीट कर बताया, ‘कल पश्चिम बंगाल की बहनों और भाइयों के बीच मुझे रहने कहा असवर मिलेगा। बीजेपी पश्चिम बंगाल की ठाकुरनगर और दुगार्पुर रैली में लोगों से बात करूंगा।’ पीएम ने बताया कि वह इस दौरान दुगार्पुर में अंदाल-सैंथिया-पकुर-मालदा और खाना-सैंथिया के इलेक्ट्रिफिकेशन और हिजली-नारायणगढ़ की थर्ड लाइन को राष्ट्र को समर्पित करेंगे। पीएम ने कहा कि यह कार्य पूर्व और उत्तर पूर्व के ट्रांसपोर्ट सेक्टर को मजबूती प्रदान करेगा।
After the Shah PM Modi will dedicate to the nation in Mamta’s stronghold, several projects of railway
रैली से पहले पोस्टर वॉर
पीएम की रैली से पहले बीजेपी और सत्ताधारी टीएमसी के बीच जबरदस्त पोस्टर वॉर देखने को मिली। दुगार्पुर में पीएम नरेंद्र मोदी के बैनर्स पर राज्य सीएम ममता बनर्जी की होर्डिंग्स लगाने का मामला सामने आया है। इसके अलावा कई जगहों पर पीएम मोदी के पोस्टरों पर कालिख पोतने की भी खबरें आईं हैं। बीजेपी ने इसका आरोप टीएमसी कार्यकर्ताओं पर लगाया है। इसे लेकर बीजेपी की स्थानीय टीम द्वारा पुलिस में शिकायत भी दर्ज करवाई गई है।
जानकारी देते हुए बीजेपी नेता राहुल सिन्हा ने बताया कि दुगार्पुर में जहां पीएम मोदी की रैली होनी है, उससे 50-70 मीटर की दूरी पर लगाए गए पीएम मोदी के बैनर्स पर सीएम ममता बनर्जी की होर्डिंग्स लगा दी गई हैं। राहुल ने कहा कि यह साबित करता है कि पश्चिम बंगाल में लोकतंत्र न के बराबर रह गया है। उन्होंने कहा कि हमारे कार्यतार्ओं ने जब इसका विरोध किया को उनपर हमला भी किया गया।

रैली स्थल का राजनीति महत्व
राहुल सिन्हा ने बताया कि उन्होंने इस संबंध में पुलिस में मामला दर्ज करवाया है और उन्हें विश्वास है कि रविवार को होने वाली पीएम की जनसभा सफल रहेगी। बता दें, राज्य में होने वाली दोनों रैलियों के आयोजन स्थल का राजनीतिक महत्व बताया जाता है। आयोजन स्थल ठाकुरनगर में मतुआ समुदाय की अच्छी खासी आबादी है। मूल रूप से यह समुदाय पूर्वी पाकिस्तान (अब बांग्लादेश) से यहां आया था। धार्मिक अत्याचार की वजह से 1950 के दशक में इन लोगों ने यहां पर पनाह ली थी। मतुआ संप्रदाय की महारानी वीणापाणि देवी के घर के नजदीक ही रैली का आयोजन किया जा रहा है। बीजेपी की प्रदेश इकाई को उम्मीद है कि मोदी ठाकुरनगर में नागरिकता (संशोधन) विधेयक पर बोलेंगे। पार्टी सूत्रों ने कहा कि बीजेपी से संबद्ध आल इंडिया मतुआ महासंघ रैली का आयोजन कर रहा है। पश्चिम बंगाल में मतुआ लोगों की आबादी 30 लाख होने का अनुमान है। उत्तर और दक्षिण 24 परगना जिले में कम से कम पांच लोकसभा सीटों पर इस समुदाय का प्रभाव है।

Leave a Response