नक्सलियों की धमकी के बाद भी पैदल पार की इंद्रावती नदी और नक्सलगढ़ में फहरा दिया तिरंगा

Indrapraty river crossing

जगदलपुर । छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित कुछ इलाकों में इस बार गणतंत्र दिवस कुछ अलग ही अंदाज में मनाया गया। यहां पुलिस जवानों ने धुर नक्सल इलाकों में तिरंगा लहराकर नक्सलियों की चुनौती को स्वीकार किया। साथ ही स्थानीय लोगों को भी संदेश दिया है कि लोकतंत्र के साथ जुड़कर ही विकास की दिशा में काम किया जा सकता है।
After the threat of Naxalites, the Indrapraty river crossing the river and hoisted the tricolor in Naxalgarh
प्रदेश के नक्सलवाद प्रभावित बस्तर में पुलिस व जिला प्रशासन ने 26 जनवरी को इंद्रावती नदी के तट पर जाकर ध्वजारोहण किया। इस दौरान कुछ स्थानों पर पुलिस के आला अधिकारियों को पैदल चलकर नदी भी पार करना पड़ी, तब इस धुर नक्सल इलाके में पहुंच सके। ध्वजारोहण के बाद बस्तर एसपी ने कहा कि ‘गांव के मुखिया की छह महीने पहले नक्सलियों ने हत्या कर दी थी। उनकी मांग थी कि इंद्रावती नदी पर एक पुल बनाया जाए इसलिए हमने आज सुबह यहां आकर ध्वजारोहण किया ताकि नक्सलियों को यह संदेश दिया जा सके कि गांव के लोग और पुलिस जंगलों में शासन करेंगे न कि नक्सली।’

Leave a Response