अमित शाह आज ममता के गढ़ में, महागठबंधन के खिलाफ करेंगे चुनाव प्रचार अभियान की शुरूआत

Amit Shah will launch campaigning

कोलकाता। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह मंगलवार को पश्चिम बंगाल के मालदा में एक विशाल जनसभा को संबोधित करेंगे। मंगलवार को पश्चिम बंगाल के दौरे पर पहुंचने वाले अमित शाह यहां भारतीय जनता पार्टी के लोकसभा चुनाव प्रचार अभियान की शुरूआत करेंगे। मालदा की इस सभा के बाद बुधवार को शाह बीरभूम और गुरुवार को नादिया जिले में भी जनसभा करेंगे।
Amit Shah will launch campaigning campaign against Mamata Banerjee in Mamta’s stronghold today
मंगलवार को मालदा में होने वाली अमित शाह की रैली को ममता बनर्जी और महागठबंधन की मोचार्बंदी के खिलाफ शक्ति प्रदर्शन के रूप में देखा जा रहा है। चूंकि अमित शाह की इस रैली से पहले इसकी अनुमति को लेकर बीजेपी और ममता सरकार में काफी वाद-विवाद हो चुका है, ऐसे में यह माना जा रहा है कि शाह की सभा में भी इसका असर जरूर दिखेगा। वहीं पश्चिम बंगाल में बीजेपी के इन बड़े कार्यक्रमों के लिए राज्य इकाई भी पूरी ताकत से तैयारियों में जुटी हुई है।

होटेल के पास लैंड होगा शाह का चॉपर
बता दें कि मंगलवार को होने वाली इस रैली से पहले पश्चिम बंगाल की सरकार ने अमित शाह को मालदा एयरपोर्ट पर हेलिकॉप्टर लैंडिंग की अनुमति देने से इनकार कर दिया था। एयरपोर्ट पर निर्माण कार्य जारी होने की बात कहते हुए मालदा के जिला प्रशासन ने यहां पर हेलिकॉप्टर लैंडिंग की इजाजत नहीं दी थी। इस बीच जब बीजेपी ने इस फैसले को राजनीतिक साजिश बताया तो ममता सरकार ने मालदा में एक निजी होटेल के पास शाह के हेलिकॉप्टर उतारने की अनुमति दे दी।

ममता ने दिया था सुरक्षा का हवाला
सरकार के इस फैसले के बाद सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि हमनें किसी भी अनुमति को देने से मना नहीं किया था, लेकिन बीजेपी अध्यक्ष की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए पुलिस ने उन्हें स्थान बदलने के लिए कहा होगा। ममता ने कहा कि उन्हें खुद भी कभी-कभी पुलिस से ऐसे निर्देश मिलते हैं, लेकिन वह लोकतंत्र पर भरोसा करती हैं और इसी कारण रैली की अनुमति भी दी गई है।

20 जनवरी से शुरू होना था अभियान
बता दें कि पश्चिम बंगाल में शाह का प्रचार अभियान पहले 20 जनवरी से शुरू होना था, लेकिन उन्हें स्वाइन फ्लू हो जाने के बाद यह कार्यक्रम रद्द कर दिया गया। बाद में अमित शाह को एम्स से छुट्टी मिलने के बाद 22 जनवरी को मालदा में सभा के लिए पश्चिम बंगाल सरकार को आवेदन भेजा गया।

Leave a Response