लोकपाल को लेकर फिर अनशन पर बैठे अन्ना, कहा-यह अनशन किसी पार्टी के विरुद्ध नहीं

hunger strike for Lokpal

मुंबई। लोकपाल व लोकायुक्त की मांग लेकर अन्ना हजारे ने बुधवार को अपना अनशन शुरू कर दिया है। बुधवार सुबह 10 बजे महाराष्ट्र स्थित अपने गांव रालेगण सिद्धि में अनशन पर बैठे। अनशन पर बैठने से पहले अन्ना हजारे ने कहा कि उनका ये अनशन किसी व्यक्ति, पक्ष, पार्टी के विरुद्ध नहीं है। समाज और देश की भलाई के लिए मैं बार बार आंदोलन करता हूं उसी प्रकार का ये आंदोलन है। हजारे ने कहा कि 2011 में पूरा देश केंद्र में लोकपाल और राज्यों में लोकायुक्त की नियुक्ति के लिए उठ खड़ा हुआ था, जिसके बाद लोकपाल बिल पास हुआ था।
Anna, sitting on hunger strike for Lokpal, said – This fast is not against any party
इस बीच मंगलवार को फड़नवीस के कैबिनेट ने मुख्यमंत्री कार्यालय को लोकायुक्त के दायरे में लाने के निर्णय लिया है। अन्ना हजारे ने मंगलवार को केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि लोकपाल कानून बने पांच साल हो गए, लेकिन सरकार ने इसे लागू नहीं किया।

अन्ना ने 28 जनवरी को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस को लिखे पत्र में कहा है कि वह अहमदनगर जिले में स्थित अपने गांव रालेगण सिद्धि में अनशन शुरू करेंगे। बता दें कि पूर्व में अन्ना हजारे मोदी सरकार निशाना साध चुके हैं, उन्होंने कहा था कि लोकपाल और लोकायुक्त कानून-2013 के संबंध संवैधानिक संस्थानों के निर्णय पर ध्यान नहीं दे रही है। यह एक तरह से देश को तानाशाही की तरफ ले जाने का संकेत है।

Leave a Response