मैदानी राज्यों में कड़ाके की ठंड का दौर जारी, बारिश से और बिगड़ा मौसम

Cold wave

नई दिल्ली। उत्तर भारत समेत कई मैदानी राज्य कड़ाके की ठंड से गुजर रहे हैं। दिल्ली-एनसीआर समेत अन्य राज्यों में हुई बारिश ने मौसम और बिगाड़ दिया। मौसम विभाग की मानें तो अभी लोगों को ऐसे बिगड़े मौसम का और सामना करना पड़ सकता है। हिमाचल में मौसम विभाग के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया है कि 30 जनवरी के बाद प्रदेश में एक बार फिर बारिश होने की संभावना है। दिल्ली और इससे सटे राज्यों के लिए भी ऐसी ही भविष्यवाणी की गई है।
Cold wave continues in the plains, rain and bad weather
दिल्ली में 30 जनवरी की शाम से बूंदाबांदी के आसार हैं। यह 1 फरवरी तक जारी रहेगी। हालांकि 31 जनवरी को सर्दी से राहत मिलने की कुछ संभावना है। मौसम विभाग के मुताबिक, नॉर्थ इंडिया में वेस्टर्न डिस्टर्बेंस का असर आएगा, जिसकी वजह से हवाओं की दिशा बदलेगी और तापमान में वृद्धि होगी। इस सिस्टम की वजह से 30 और 31 जनवरी को कुछ राज्यों में बारिश भी होगी। मध्यप्रदेश में मौसम साफ है, धूप खिली हुई है लेकिन हवाओं के कारण ठिठुरन बनी हुई है। मौसम वैज्ञानिक एके शुक्ल के अनुसार, प्रदेश में 48 घंटे सर्द हवाएं चलने व सर्दी के तीखे तेवर बने रहने का अंदेशा है। 31 जनवरी को जम्मू कश्मीर में पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होने की संभावना है।

जिसके चलते भारी बर्फबारी होने के कारण आगामी दो फरवरी तक मौसम इसी तरह बना रहेगा। लेकिन इस पश्चिमी विक्षोभ के कारण 2 फरवरी के बाद एक बार फिर ठंड के तेवर तीखे होने की संभावना है। जिसकेअसर से पूर्वी राजस्थान और पश्चिमी मध्यप्रदेश में रात का तापमान 4 डिग्री के आसपास रहने की संभावना है। हालांकि ग्वालियर और चंबल क्षेत्र में बादलों के साथ हल्की बौछारें भी पड़ सकती है। छत्तीसगढ़ में राजधानी रायपुर समेत बस्तर के सुदूर अंचल तक ठंड से लोग कांपते रहे हैं। अगले चौबीस घंटे तक अभी यहां शीतलहर चलने की संभावना है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक हिमालय की तराई से नम व ठंडी हवा चलने से ठिठुरन बढ़ी है। छत्तीसगढ़ के पेंड्रारोड में तापमान 5.6 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड हुआ है।

Leave a Response