गौर के साथ आए कुसमरिया, बोले- मुझे भी टिकट के लिए कांग्रेस से मिला है आफर

Congress for the ticket

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी में पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर के पार्टी विरोधी बयान से गरमाई सियासत थमने का नाम नहीं ले रही है। सोमवार को भाजपा के एक और बागी नेता डॉ. रामकृष्ण कुसमरिया, गौर के साथ खड़े हो गए। पूर्व कृषि मंत्री कुसमरिया ने गौर से मुलाकात के बाद कहा कि ‘मुझे भी कांग्रेस ने बुंदेलखंड की किसी भी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने का आॅफर दिया है। बुंदेलखंड या जबलपुर से मैं चुनाव लड़ सकता हूं।
Kusmariya, who came with Gaur, said – I have also met the Congress for the ticket.
कुसमरिया बोले कि मैंने तो 5 जगह से टिकट मांगा था, नहीं दिया तो 11 जगह हार का सामना करना पड़ा। दो जगह तो मैंने डंके की चोट पर हराया, जहां से मैं निर्दलीय खड़ा हुआ था। हमारे नेता हमारी हैसियत जानते नहीं थे, वो जो हमसे जूनियर हैं, हमसे हैसियत पूछते थे। इसलिए हमें हैसियत दिखानी पड़ी और सरकार चली गई। बाबूलाल गौर से मिलने के सवाल पर कुसमरिया बोले कि गौर साहब से ऊर्जा मिलती है, राजनीति में आगे बढ़े हैं तो गौर साहब के कारण।

कुसमरिया भाजपा के सदस्य नहीं
भाजपा के वरिष्ठ नेता उमाशंकर गुप्ता ने कहा कि रामकृष्ण कुसमरिया अब पार्टी के सदस्य नहीं हैं। उन्होंने कहा कि कुसमरिया ने जो कहा वह सबको मालूम है और जो हुआ वह भी सब जानते हैं। पार्टी उन पर पहले ही कार्रवाई कर चुकी है। वह पार्टी के सदस्य नहीं हैं। उन्हें जहां से चुनाव लड़ना है, लड़ें।

गौर कांग्रेस से लड़े तो भोपाल सीट हारेगी
भाजपा भाजपा से बर्खास्त पूर्व मंत्री सरताज सिंह ने भी पार्टी नेताओं पर निशाना साधा है। भाजपा से बगावत कर कांग्रेस के टिकट पर होशंगाबाद सीट से विधानसभा चुनाव लड़ने वाले सिंह ने कहा कि तीन राज्यों में भाजपा की हार की वजह मोदी सरकार है। नोटबंदी और जीएसटी जैसे फैसलों के कारण भाजपा को पराजय मिली।

अभी विचार कर रहे हैं: गौर
कांग्रेस से चुनाव लड़ने के मुद्दे पर गौर ने एक बार फिर कहा कि मैंने कांग्रेस का आॅफर टाला नहीं है, अभी विचार कर रहे हैं। भाजपा से नाराजगी नहीं है, हम चाहते हैं कि पार्टी में जो कमी है वह दूर हो, नहीं तो लोकसभा चुनाव में सशक्त रूप से विजय नहीं मिल पाएगी। मैंने स्वतंत्रदेव सिंह से भी कहा कि पुराने नेताओं को बुलाओ और उनसे सलाह लो। पार्टी में ठीक दिशा में काम हो, यही हम चाहते हैं।

Leave a Response