महाराष्ट्र: शिवसेना ने भाजपा को दिया संदेश, कहा- 1995 के फार्मूले के आधार पर होगा गठबंधन

formula of 1995 coalition

मुंबई। एक तरफ भाजपा महाराष्ट्र में अपने सहयोगी दल शिवसेना से गठबंधन के लिए सारे प्रयास आजमा रही है, तो दूसरी ओर शिवसेना आसानी से मानती नजर नहीं आ रही है। दो दिन पहले दोनों दलों के नेताओं के बीच फोन पर बातचीत हुई थी। सूत्रों के अनुसार, गठबंधन के लिए शिवसेना की नजरें 1995 मॉडल पर हैं। इसके लिए वह 288 सीटों वाली विधानसभा में लगभग 150 सीटें और लोकसभा चुनाव के लिए महाराष्ट्र की कुल 48 सीटों में से 25-26 सीटें मांगेगी।
Maharashtra: The message given by Shiv Sena to the BJP, said – will be based on the formula of 1995 coalition
सूत्रों ने बताया कि शिवसेना के शीर्ष नेतृत्व ने बीजेपी को संदेश भिजवाया है कि गठबंधन पर गंभीरता से बातचीत तभी शुरू होगी, जब उसके लिए 1995 के मॉडल को आधार बनाया जाएगा। 1995 में पहली बार महाराष्ट्र में शिवसेना और बीजेपी की सरकार बनी थी, जिसे नेतृत्व गठबंधन के मुख्यमंत्री मनोहर जोशी ने दिया था और शिवसेना गठबंधन की प्रमुख साझेदार थी। शिवसेना की तरफ से जो 1995 वाले मॉडल की बात हो रही है, उसमें उसकी डिमांड का पूरा पैकेज है।

मॉडल के हिसाब से शिवसेना की पहली मांग यह होगी कि फडणवीस की सरकार भंग कर दी जाए और महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव लोकसभा चुनाव के साथ ही कराए जाएं। सेना की दूसरी मांग यह होगी कि अगर बीजेपी उसके साथ गठबंधन करना चाहती है तो, उसे मुख्यमंत्री पद पर शिवसेना का दावा कबूल करना होगा। इसके लिए वह 288 सीटों वाली विधानसभा में लगभग 150 सीटें और लोकसभा चुनाव के लिए महाराष्ट्र की कुल 48 सीटों में से 25-26 सीटें मांगेगी।

इतनी आसानी से मानने वाली नहीं शिवसेना
शिवसेना के रुख को देखकर तो यही लगता है कि वह गठबंधन की बात पर आसानी से मानने वाली नहीं है। सोमवार को पार्टी के सीनियर लीडर संजय राउत ने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू के साथ एकजुटता दिखाने के लिए उनसे मुलाकात की। नायडू केंद्र सरकार के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान के तहत दिल्ली के दौरे पर हैं। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री के अभियान को विपक्षी एकता के शक्ति प्रदर्शन का मंच में तब्दील कर दिया गया है।

‘शिवसेना के बड़े भाई के दर्जे का सम्मान करना होगा’
इस बारे में शिवसेना के सीनियर लीडर संजय राउत ने कहा, ‘गठबंधन के लिए बीजेपी को शिवसेना की अस्मिता और महाराष्ट्र में उसके बड़े भाई के दर्जे का सम्मान करना होगा। बीजेपी के लीडर्स को पता है कि गठबंधन नहीं करने पर वे महाराष्ट्र में 10 से ज्यादा लोकसभा सीटें जीत नहीं पाएंगे।’ शनिवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री फडणवीस और पार्टी की राज्य इकाई के प्रमुख रावसाहेब दन्वे ने दावा किया था कि बीजेपी महाराष्ट्र में अपने बूते लोकसभा की 43 सीटें जीत लेगी।

Leave a Response