मप्र: बसपा विधायक की धमकी, बनाएं मंत्री, नहीं तो कर्नाटक जैसी होगी स्थिति

condition will be like Karnataka

भोपाल। मध्य प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) की विधायक रमाबाई अहिरवार ने कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार से मांग की है कि उनकी पार्टी के दो विधायकों को मंत्री पद दिया जाए। रमाबाई ने कहा कि राज्य में बहन जी (मायावती) के समर्थन से सरकार चल रही है और वह नहीं चाहती हैं कि कर्नाटक जैसी स्थिति मध्य प्रदेश में भी आए। रमाबाई ने कहा, ‘मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार बहन जी (मायावती) के समर्थन से बनी है। हम कमलनाथ सरकार में बीएसपी के दो विधायकों के लिए मंत्री पद चाहते हैं। हमने ऐसी ही स्थिति कर्नाटक में देखी है और हम नहीं चाहते हैं कि वही स्थिति यहां भी हो।’ उन्होंने कहा कि यदि कांग्रेस ने उन्हें मंत्री पद नहीं दिया तो न केवल मैं बल्कि अन्य लोग भी इसका विरोध करेंगे।
MP: threat of BSP MLA, build minister, if not, condition will be like Karnataka
‘हरेक को खुश रखने की जरूरत’
उन्होंने कहा, ‘उन्हें हरेक को खुश रखने की जरूरत है। यदि वह (कमलनाथ) पार्टी को मजबूत बनाए रखना चाहते हैं तो सबसे पहले हमें उन्हें मजबूत बनाना होगा। उन्हें हमें मंत्री पद देना चाहिए।’ गौरतलब है कि कर्नाटक में सत्तारूढ़ जेडीएस-कांग्रेस सरकार को अपनी सत्ता बचाए रखने के लिए लगातार संघर्ष करना पड़ रहा है। राज्य में मंत्री नहीं बनाए जाने से कई विधायक नाराज चल रहे हैं और बताया जा रहा है कि वे विपक्षी बीजेपी के साथ संपर्क में हैं। उधर, कांग्रेस ने अपनी सरकार बचाए रखने के प्लान बी पर तेजी से काम शुरू कर दिया है। सूबे में कांग्रेस के दिग्गज लीडर डीके शिवकुमार ने कहा कि मेरे समेत सभी मंत्री इस्तीफा देने को तैयार हैं ताकि असंतुष्ट विधायकों को सरकार में शामिल किया जा सके। उनकी इस टिप्पणी से माना जा रहा है कि जेडीएस के साथ अपनी गठबंधन सरकार को बचाने के लिए कांग्रेस असंतुष्टों को मंत्री बनाने का दांव चल सकती है।

बता दें कि मध्य प्रदेश में विधानसभा की कुल 230 सीटें हैं। हालिया विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के 114 और बीजेपी के 109 विधायकों को जीत मिली है। कांग्रेस ने बीएसपी, एसपी और निर्दलीय विधायकों के सहयोग से सरकार बनाई है। सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस और बीजेपी के कई विधायक दूसरे दलों के संपर्क में हैं। जानकारी के अनुसार, कांग्रेस के वे विधायक जो मंत्री नहीं बन पाए हैं, असंतुष्ट चल रहे हैं तो बीजेपी के कई विधायक जो मंत्री रहे और मंत्री बनना चाहते हैं, वे कांग्रेस के संपर्क में हैं। लिहाजा, कई स्थानों पर उप-चुनाव की संभावनाएं जोर पकड़ने लगी हैं।

Leave a Response