ऋण माफी पर दिए निर्देशों की अवहेलना पर गिरी गाज, कई पदाधिकारियों को किया निलंबित

many officials suspended

आलीराजपुर। किसानों के नाम पर फर्जी ऋण निकाले जाने के मामले तथा ऋण माफी को लेकर दिए गए निर्देशों की अवहेलना करने पर शाखा प्रबंधक व संस्था प्रबंधकों पर गाज गिरी है। उन्हें एमडी ने निलंबित कर दिया है। जिले में लगातार इस तरह के प्रकरण सामने आ रहे हैं। फुलमाल सोसायटी के मामले में भी अधिकारियों पर गाज गिरने की संभावना है। जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के वरिष्ठ महाप्रबंधक पीएन यादव ने निलंबन आदेश जारी किए है।
Prohibition of defying instructions on debt forgiveness, many officials suspended
इसके तहत विक्रमसिंह भिण्डे प्रभारी पर्यवेक्षक शाखा उमराली और कुंवरसिंह डाबर समिति प्रबंधक संस्था वालपुर को ऋण माफी के निदेर्शों की अवहेलना करने पर निलंबित कर दिया है। निलंबनकाल में कर्मचारियों का मुख्यालय प्रधान कार्यालय झाबुआ रहेगा। निलंबनकाल में इन्हें मात्र जीवन निर्वाह भत्ता प्राप्त करने की पात्रता रहेगी। इसी तरह ऋण माफी योजना अंतर्गत कृषक ऋण बकाया के संबंध में पोर्टल पर अपलोड की गई जानकारी का सूक्ष्म परीक्षण संस्थाओं के मूल रिकॉर्ड से किए जाने अंतर्गत समिति वालपुर (शाखा-उमराली) के सूक्ष्म परीक्षण में त्रुटि मिलने पर नानबू मसानिया प्रभारी शाखा प्रबंधक शाखा कट्ठीवाड़ा को निलंबित कि या गया।

वहीं. खरीफ के मामले में भोपाल से दिए गए निदेर्शों की अवहेलना करने पर कालूसिंह गवले प्रभारी शाखा प्रबंधक शाखा उमराली को भी निलंबित कि या गया है। इसी तरह गणपत सोनवाने तत्कालीन प्रभारी शाखा प्रबंधक शाखा उमराली (वर्तमान शाखा जोबट) को भी निलंबित कर दिया गया है। आने वाले दिनों में अन्य कई शाखा प्रबंधकों के खिलाफ कार्रवाई होने की संभावना है।

इन्हें सौंपा गया प्रभार
निलंबन आदेश के बाद जारी नए आदेश के तहत जामसिंह भाबर लेखापाल शाखा छकतला को शाखा प्रबंधक कट्ठीवाड़ा, करमसिंह जमरा सहायक लेखापाल शाखा उमराली को शाखा प्रबंधक शाखा उमराली, उदयसिंह चौहान सहायक लेखापाल शाखा आलीराजपुर को शाखा प्रबंधक शाखा प्रबंधक जोबट और मनोहरलाल त्रिवेदी संस्था प्रबंधक शाखा आलीराजपुर को पर्यवेक्षक शाखा उमराली समिति, प्रबंधक उमराली-वालपुर बनाया गया है।

फु लमाल सोसायटी के कि सानों के नाम पर भी फर्जी ऋण निकालने का मामला सामने आ चुका है। कि सानों ने सहकारिता विभाग के अफसरों को इसकी शिकायत भी की है। कि सानों ने ऋण लिया ही नहीं और उनके नाम से ऋण लेना बैंक की सूची में बताया गया है। आदिम जाति सेवा सहकारी संस्था मर्यादित फु लमाल से ग्राम रातड़ के कि सानों के नाम पर फर्जी ऋण निकाला गया है। संंस्था से कि सान नाना पिता नायकडा राशि 61 हजार 902, करशन पिता नायकडा राशि 61 हजार 902 और कि शन थावरिया के नाम पर 41 हजार 813 रुपए ऋण के नाम पर निकाली गई है। तीनों कि सानों ने ऋण लिया ही नहीं है और उनके नाम पर ऋण निकाला जाना ऋण माफी की सूची में दशार्या गया है।

Leave a Response