अगुस्टा मामले में भारत को मिली दूसरी बड़ी सफलता, दो और दलालों ने किया प्रत्यर्पण, पूछताछ जारी

Second major success in India in Agusta case

नई दिल्ली। अगुस्टा वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर मामले में क्रिश्चन मिशेल को भारत लाने के बाद भारत को इसके दो और दलालों को पकड़ने में कामयाबी मिली है। भारतीय एजेंसियों ने दुबई के अकाउंटेंट राजीव सक्सेना और दीपक तलवार भारत प्रत्यर्पित करवाने में सफलता पाई है। अधिकारियों ने बुधवार को कहा कि सक्सेना और तलवार को देर शाम दिल्ली लाया गया। उसे दुबई के अधिकारियों ने बुधवार सुबह पकड़ा था। सक्सेना और तलवार दोनों को फिलहाल ईडी की कस्टडी में रखा गया है।

सक्सेना से धन शोधन के आरोपों में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी ) और सीबीआई दोनों पूछताछ कर रही है। दोनों को सुबह चार बजे ईडी के आॅफिस में लाया गया। उन्हें आज दोपहर 2 बजे कोर्ट में भी पेश किया जाएगा। इससे पहले, पिछले साल दिसंबर में यूएई सरकार ने 3600 करोड़ के वीवीआईपी हेलिकॉप्टर घोटाले के कथित बिचौलिए और मामले में सह आरोपी ब्रिटिश नागरिक क्रिश्चन मिशेल को प्रत्यर्पित किया था। वह फिलहाल न्यायिक हिरासत में है।

ईडी ने दुबई में रहने वाले सक्सेना को इस मामले में कई बार तलब किया था और 2017 में चेन्नई हवाई अड्डे से उसकी पत्नी शिवानी सक्सेना को गिरफ्तार किया था। वह जमानत पर रिहा चल रही है। ईडी का आरोप है कि सक्सेना, उसकी पत्नी और दुबई स्थित उसकी दो फर्मों ने धन शोधन किया। अब सक्सेना और तलवार दोनों को पटियाला कोर्ट के सामने पेश किया जाएगा। सुबह करीब चार बजे इन्हें ईडी के आॅफिस लाया गया। ईडी ने इस मामले में दायर आरोपपत्र में सक्सेना को नामजद किया और उसके खिलाफ गैरजमानती वॉरंट जारी करवाया था। पिछले साल, 6 अक्टूबर को दिल्ली की एक अदालत ने सक्सेना के खिलाफ गैरजमानती वॉरंट जारी किया था। अब सीबााई और ईडी दोनों एजेंसियां आरोपियों से पूछताछ करेंगी।

Leave a Response