जेल में यह महिला कर रही ऐसे ऐश कि आपके मन से भी निकल जाएगा कालकोठरी का डर

fear of the dungeon

बेंगलुरु। चिनम्मा याद है आपको? जी हां, अम्मा यानी दिवंगत जे जयललिता की परछाई वीके शशिकला। पुरानी खबर यह कि किसी समय तमिलनाडु की सियासत को अपनी मुट्ठी में रखने वाली यह महिला फिलहाल कर्नाटक की जेल में बंद है। नयी खबर यह कि चिनम्मा जिस विलासिता के साथ जेल में समय बिता रही है, वह पढ़कर आपके मन से भी कालकोठरी का डर हमेशा के लिए खत्म हो सकता है।
This woman is going to get out of your mind like Ash in jail, fear of the dungeon
बता दें कि शशिकला को जयललिता के साथ ही भ्रष्टाचार के आरोप में सजा सुनायी गयी थी। कर्नाटक की परापना अग्रहरा जेल में शशिकला पूरे ठाठ के साथ रह रही है। यह हम नहीं, सूचना का अधिकार यानी आरटीआई के तहत मिली जानकारी बता रही है। कुल 295 पेज की यह जानकारी के बारे में आरटीआई कार्यकर्ता नरसिम्हा मूर्ति ने बताया, ‘295 पन्ने की रिपोर्ट में तत्कालीन डीआईजी (जेल) डी. रूपा के जुलाई 2017 के दावों की पुष्टि हुई कि परापना अग्रहरा केंद्रीय कारागार में शशिकला का विशेष इलाज कराया गया और उन्हें अलग रसोईघर भी मुहैया कराया गया था। आरटीआई के माध्यम से मैंने 295 पन्नों की रिपोर्ट देखी है। रिपोर्ट में इस बात की पुष्टि होती है कि शशिकला का जेल में विशेष इलाज कराया गया।’ गृह विभाग की जनसंपर्क अधिकारी एम आर शोभा ने आरटीआई का जवाब मुहैया कराया।

रिपोर्ट में सामने आईं कई बड़ी बातें
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, शशिकला को सिर्फ एक ही कमरा अलॉट था लेकिन उन्हें चार कमरे और दिए गए। जब शशिकला जेल गईं तो उनके बगल वाले कमरे के कैदियों को दूसरी जगह शिफ्ट करके बाकी कमरे भी शशिकला को दे दिए गए। कैदियों को जेल में खाना बनाने की अनुमति नहीं होती है लेकिन शशिकला के लिए खाना बनाने के लिए एक कैदी को रखा गया।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि 15 फरवरी 2017 से 16 जून 2017 तक शशिकला से 48 लोग मिले। नियमों को तोड़ते हुए कई लोग ग्रुप में आए और शशिकला से मिलकर गए। सीसीटीवी फुटेज में यह भी देखा गया कि शशिकला और उनकी साथी कैदी इलावर्सी ने कैदियों को दिए जाने वाले कपड़े भी नहीं पहने।

सबसे पहले डी. रूपा ने लगाए थे आरोप
बता दें कि जेल में विशेष सुविधा दिए जाने का मुद्दा गरम होने के बाद कर्नाटक की सिद्धारमैया सरकार ने रूपा के आरोपों की जांच सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी विनय कुमार से कराने के आदेश दिए थे। इन्हीं विनय कुमार की रिपोर्ट को आरटीआई के जवाब के तौर पर पेश किया गया है, जिसमें शशिकला को विशेष फायदे दिए जाने की बात कही गई है।

डी. रूपा ने डीजीपी (जेल) एचएन सत्यनारायण राव को रिपोर्ट सौंपकर आरोप लगाए थे कि इस तरह की ‘चर्चा’ है कि शशिकला का विशेष तौर पर इलाज कराने के लिए दो करोड़ रुपये की रिश्वत दी गई थी। इसमें राव पर भी रिश्वत लेने के आरोप लगे, जिसका राव ने खंडन किया था। इस मुद्दे के कारण सिद्धारमैया के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार को शर्मिंदगी उठानी पड़ी थी, जिसके बाद रूपा और राव दोनों का स्थानांतरण कर दिया गया।

Leave a Response